Archive for November, 2011

Free mobiles, bicycles for retaining Bihar migrant labourers

Free mobiles, bicycles for retaining Bihar migrant labourers

Ludhiana (Punjab): Facing acute labour shortage mainly due to less influx of migrant labourers, particularly from Bihar, employers are doling out freebies like mobile phones and bicycles to lure workers.

Witnessing almost 30 per cent labour shortage, nearly 5000 small and big manufacturers of bicycles and parts in Ludhiana, popularly known as the country’s “bicycle capital”, are facing threat of closure, traders said. Some of the leading names in the bicycle manufacturing here include Hero, Avon and Rolex.

The ill-effect of the labour crisis is also felt on the farm sector as well as on textile manufacturing in the district.

MGNREGA was another factor pointed out for this.

“The labourers are also given mobile recharge coupons of Rs 50 to Rs 200 denominations to talk to their families,” D S Chawla, former president of United Cycle and Parts Manufacturing Association, told PTI.

A bicycle costing around Rs 2500 is given either free or for a paltry sum to these labourers so that they can paddle to their work place, P D Sharma, president of Chamber of Commerce and Industries (Punjab), said.

A survey has found that migration of labourers from Bihar in search of livelihood to places like Punjab and Delhi has declined by over 26 per cent, thanks to initiatives taken by the Nitish Kumar government in the past five years to check their exodus.

Source:

Advertisements

खुशखबरी : मुंगेर नगर परिषद से बन गया नगर निगम

मुंगेर, निज संवाददाता : मुंगेर शहरवासियों के लिए यह खबर खुशखबरी जैसा ही है। लंबे उठा-पटक के बाद आखिरकार मुंगेर नगर परिषद को नगर निगम का दर्जा मिल ही गया। बुधवार की देर संध्या डीएम कुलदीप नारायण ने बताया कि नगर विकास एवं आवास विभाग ने 22 नवंबर को अधिसूचना संख्या 6256 के द्वारा मुंगेर को नगर निगम घोषित कर दिया। बताते चलें कि पूर्व में ही नगर विकास एवं आवास विभाग ने मुंगेर को नगर निगम का दर्जा दे दिया था। नगर परिषद मुंगेर की मुख्य पार्षद कुमकुम देवी ने उस समय इस फैसले को पटना उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी। माननीय उच्च न्यायालय ने नगर विकास विभाग के आदेश को रद करते हुए यथा स्थिति बनाए रखने के निर्देश दिए थे। इधर, मुंगेर डीएम ने कहा कि यह मेरे लिए खुशी की बात है कि मेरे प्रस्ताव पर मुंगेर को नगर निगम का दर्जा मिल गया। अब नागरिकों को बेहतर नागरिक सुविधा मिल पाएगी।

गंगा की लहरों पर सैर का लुफ्त उठाएंगे पर्यटक

मुंगेर, निज संवाददाता : उत्तर वाहिनी गंगा के तट पर बसे योगनगरी (मुंगेर) आने के बाद अब पर्यटक गंगा की लहरों पर सैर का लुफ्त उठा सकेंगे। वहीं, दिनभर की भागदौड़ के बाद अगर आप अपने परिवार के साथ शांति से दो पल व्यतीत करना चाहते हैं, तो यह जल्दी ही मुमकिन हो सकता है। जी हां, नगर परिषद मुंगेर ने आंतरिक संसाधन (आमदनी) बढ़ाने को लेकर नए विकल्पों की तलाश शुरु कर दी है। इसी कड़ी में आम आदमी और पर्यटकों को गंगा की सैर कराने का विकल्प उपलब्ध कराने को लेकर नगर परिषद गंभीरता से विचार-विमर्श कर रही है। इधर, नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी भानूप्रकाश ने बताया कि पटना की तर्ज पर अब मुंगेर में आम लोगों और पर्यटकों को गंगा की सैर का विकल्प उपलब्ध कराने को लेकर विचार किया जा रहा है। इसके लिए मोटर बोट, स्पीड मोटर बोट आदि पर आने वाले लागत की समीक्षा की जा रही है। इसके बाद वृहद प्रस्ताव तैयार कर वरीय अधिकारियों को भेजा जाएगा।

कैसी होगी व्यवस्था

पर्यटक और आम आदमी के लिए गंगा घाट पर रहेगी मोटरवोट,

शुल्क अदा कर कर उठा सकेंगे नौका बिहार का आनंद,

सुरक्षा के लिए लाइफ जैकेट और गोताखोर भी रहेंगे मौजूद,

नगर परिषद को प्रत्येक माह लाखों रुपये की होगी आमदनी।

Source: http://in.jagran.yahoo.com/news/local/bihar/4_4_8527785.html